Tally क्या है? – जानिए टैली की पूरी जानकारी हिंदी में

यदि आप commerce के student है और आप का विषय account है, तो आपने Tally क्या है यह सवाल जरूर सुना होगा। हो सकता है, आपको इसके बारे में थोड़ी बहुत जानकारी भी हो, क्योंकि accounting की दुनिया में Tally का काफी महत्व है।

खासकर government office के अलग-अलग account को तैयार करने और business के लिए यह बेहद जरूरी है। दोस्तो, अक्सर लोग इस बारे में सवाल पूछते हैं, की आखिर Tally क्या है, Tally के फायदे क्या है या Tally कैसे सीखे आदि। 

तो यदि आप भी उनमें से हैं, जिन्हें Tally के बारे में कुछ खास जानकारी नहीं है, तो आपको चिंता की बिल्कुल जरूरत नहीं, क्योंकि आज हम इस लेख में Tally से संबंधित सारी जानकारियां बताने वाले हैं। 

इसके साथ ही साथ हम आज के इस लेख में यह भी बताएंगे कि Tally का इतिहास क्या है और Tally की शुरुआत कब कहां और किससे हुई। 

दोस्तों आज के समय में company चाहे छोटी हो या बड़ी सभी में accountant department जरूर होता है, जो organization के तमाम account से जुड़े कामों को देखता है। 

इसलिए आपको बता दूं, कि सभी account department में acounting के लिए Tally का ही इस्तेमाल किया जाता है, क्योंकि business इत्यादि में record को तैयार करने और उसे maintain रखने के लिए Tally सबसे बेहतरीन application में से एक है।

इसलिए यदि आप account के student है, तो आपको Tally के बारे में पूरी जानकारी होना बहुत जरूरी है। तो आइए फिर देर किस बात की चलिए जानते है, की Tally क्या है और Tally कैसे सीखे। 

Tally क्या है

Tally भारत में इस्तेमाल किया जाने वाला सबसे popular accounting software है। जिसकी स्थापना Tally Solution Pvt. Ltd. नामक एक multinational company ने किया है।

आपको बता दें, कि इस company का headquarter भारत के बेंगलुरु शहर में स्थित है। वैसे क्या आपको पता है, Tally का इस्तेमाल लगभग 10 लाख से भी ज्यादा लोग करते हैं।

इस software का सबसे अहम काम पैसों की गणना यानी calculating करने के साथ-साथ उसे arrange करना व preserving करना होता है। इसके अलावा कोई वस्तु कहां से खरीदी गई या कितने में खरीदी गई इन सभी कामों का record रखता है। यदि आसान भाषा में कहें तो,

कोई भी company या industry अपने business में होने वाले वित्तीय लेनदेन या company के product कहां से और कितने मे लिए गए इत्यादि बातों का record रखने के लिए Tally software का इस्तेमाल करता है।

accounting का सिलसिला तो पुराने जमाने से ही चला आ रहा है, बस फर्क इतना है कि पहले होने वाले सभी लेनदेन को हाथ से लिख कर दस्तावेजों के रूप में रखा जाता था।

लेकिन अब बदलते वक्त के साथ चूँकि हर काम कंप्यूटर या लैपटॉप के द्वारा किया जाता है इसी कारण आज तमाम companies अपने business से जुड़े सभी लेनदेन का record software के द्वारा रखते है।

हालांकि इन record को रखने के लिए Tally एक इकलौता software नहीं है। लेकिन यह उन तमाम software में सबसे बेहतरीन है, इसलिए इसका इस्तेमाल सबसे ज्यादा किया जाता है।

आज इन software की वजह से accounting के मुश्किल से मुश्किल और पेचीदा हिसाब को भी आसानी से हल कर लिया जाता है। इसलिए accounting से जुड़े लोगों को इस software की जरूरत रोजाना ही पड़ती है।

तो दोस्तों अब तो आप जान ही गए होंगे कि Tally क्या है लेकिन क्या आपको यह पता है, की Tally की शुरुआत कब और कैसे हुई। यदि नहीं तो चलिए इन सवालों के जवाब भी हम आपको बताते है। 

Tally का फुल फॉर्म (Tally Full Form)

तो दोस्त मुझे उम्मीद है, कि अब आप Tally क्या है यह अच्छी तरह से समझ गए होंगे। लेकिन क्या आपको यह पता है कि Tally का फुल फॉर्म क्या है। 

जानकारी के लिए आपको बता दे, की Tally का फुल फॉर्म होता है ‘Transactions allowed in a linear line yards’

Tally का इतिहास (History of Tally)

जैसा कि हमने बताया की Tally software को Tally solution Pvt. Ltd. नामक company द्वारा बनाया गया है। लेकिन आपको बता दूं, कि शुरू – शुरू में इस company को Peutronics financial Accountant नाम से जाना जाता था। 

उस समय इस software को सबसे पहले केवल Microsoft Docs के लिए launch किया गया था। जो कि केवल basic accounting function करने में ही सक्षम था। लेकिन बाद में साल 1999 में इस company का नाम बदलकर Tally solution Pvt. Ltd. रख दिया गया।

दोस्तों आपको यह जानकर हैरानी होगी की इस software को बनाने वाला कोई विदेशी नहीं बल्कि भारतीय नागरिक है। जी हां इस software को श्याम सुंदर गोयनका ने अपने बेटे भरत गोयनका के साथ मिलकर वर्ष 1986 में बनाया था। 

जानकारी के लिए बता दूं, कि जिस समय इस software का निर्माण किया गया था, उस समय श्याम सुंदर गोयनका अपनी company से plant’s और textile mills के कच्चे माल और मशीन parts supply करने का काम करते थे।

तब श्याम सुंदर गोयनका, का कहना था, कि उन्हें अपने company का पूरा हिसाब किताब रखने में काफी परेशानी होती थी। 

उस वक्त कोई ऐसा software नहीं था, जिससे की उन्हें अपने company के record को रखने में आसानी हो। तभी उन्होंने अपने बेटे भरत गोयनका को एक ऐसा software बनाने को कहा जिससे वे अपने business को आसानी से manage कर सके।

भरत गोयनका जो की उस समय mathematics में graduate कर चुके थे। उन्होंने सबसे पहले accounting application के लिए सबसे पहला version microsoft docs application के रूप में launch किया।

जिसका नाम उन्होने peutronics financial accountants रखा। उस समय इस software में केवल basic accounting functions ही थे। 

लेकिन बाद में समय के साथ इस software मे कई तरह बदलाव किए गए और Tally के अलग – अलग version को market में launch किया गया। जो कुछ इस तरह है- 

Different versions of Tally 

1. Tally 4.5

Tally 4.5 Tally का सबसे पहला version है, जिसे साल 1990 में launch किया गया था। उस समय यह software केवल Microsoft Docs पर ही आधारित था।

2. Tally 5.4

Tally 5.4 Tally का दूसरा version है, जिसे 1996 में launch किया गया था। आपको बता दूं कि यह एक graphic interface version में से एक था।

3. Tally 6.3

Tally 6.3 को साल 2001 में launch किया गया था। यह version Windows based था और साथ ही यह update version VAT यानी value added tax के साथ printing को भी support करता था।

4. Tally 7.2

Tally 7.2 को साल 2005 में launch किया गया था। इस software को complimentary version और VAT यानी value added tax नियमों के साथ market में उतारा गया था।

5. Tally 8.1 और Tally 9

Tally 8.1 और Tally 9 को साल 2006 में launch किया गया था। इसे एक नई data structure के साथ develop किया गया था। इसके साथ ही इस software में point of sell (POC), FBT, TDS, और Payroll जैसे नए features भी डाले गए थे। 

Tally ERP 9 

Tally ERP 9 अब तक का सबसे latest version है। जिसे साल 2009 में launch किया गया था। इस software में छोटे से लेकर बड़े businessmen, companies और industry अपने तमाम लेन – देन और accounting का record रखते हैं।

इस software को साल 2016 में नए updated version के साथ launch किया गया था। जिसके बाद इस software में कुछ नए features add किए गए थे जैसे GST server और tax payer. 

जिसके बाद साल 2017 में एक बार फिर से update के साथ GST compliance software के साथ इसे launch किया गाया। 

Tally की विशेषताएं (Features of Tally)

Tally क्या है, इसके बारे में तो आपने जानकारी हासिल कर ली। लेकिन क्या आप Tally के features के बारे में जानना चाहते हैं? यदि हां तो इसे ध्यानपूर्वक पढ़ें, क्योंकि यहां हम Tally के कुछ महत्वपूर्ण features के बारे में बताने वाले हैं।

Tally software को सबसे बेहतरीन software माना जाता है, क्योंकि इसका इस्तेमाल करना बहुत ही आसान है और इसमें कोई मुश्किल और powerful code नही होता है। 

इसके अलावा इस software को आप high speed internet connection के साथ इस्तेमाल कर सकते हैं। वह भी बिलकुल real time management के साथ। 

Tally एक ऐसा software है, जिसे multilingual tally के नाम से भी जाना जाता है, क्योंकि Tally का सबसे latest version ERP 9 में आप विभिन्न language के साथ report तैयार कर सकते हैं। 

Tally software का इस्तेमाल करके आप लगभग 99,999 से भी ज्यादा companies के accounts maintain कर सकते हैं। Tally के एक feature Payroll का इस्तेमाल करके आप अपने employee के records management को स्वचालित कर सकते हैं।

Tally में synchronization नामक एक feature मौजूद होता है। इस वजह से जब अलग-अलग location के office में transactions किया जाता है, तो Tally उसे automatic ही update कर देता है।

Tally software का इस्तेमाल financial और inventory management तथा invoicing, sales purchase management, reporting और MIS आदि को संभालने के लिए किया जाता है।

Tally के फायदे (Advantage of Tally)

Tally के कई बेहतरीन फायदे हैं, जो कुछ इस तरह है

1. Payroll management 

Employee को salary distribute करते समय कई तरह की calculation करने की जरूरत होती है इसी तरह Tally का इस्तेमाल company के financial record को बनाए रखने के लिए किया जाता है। जिसमें net deduction, net payment, bonuses और taxes आदि शामिल है। 

2. Easy of maintaining a budget 

budget को बनाए रखने के लिए Tally का इस्तेमाल किया जाता है। Tally का इस्तेमाल companies के total budget को ध्यान में रखकर काम करने और खर्चों को manage करने में मदद करता है।

3. Data reliability and security 

Tally में दर्ज किया जाने वाला data विश्वसनीय और secure रहता है। इसमें दर्ज किए गए records हमेशा सुरक्षित रहते हैं।

4. Management in the banking sector 

बैंक प्राय: अलग-अलग users के account को manage करने के लिए Tally का इस्तेमाल करते हैं और deposit किए गए पैसो के intrest को calculate भी करते हैं। Tally banking system को काफी simple और calculate करने की क्षमता को आसान बनाता है।

5. Simple tax returns filing

Tax GST का इस्तेमाल यह सुनिश्चित करने के लिए किया जाता है, कि company सभी GST का compile करती है और साथ ही tax GST सभी छोटे businesses के लिए service tax return, excise tax, VAT filing, TDS return और profit and loss statement का भी ध्यान रखती है।

Tally ERP क्या होता है

Tally ERP क्या होता है, जानने से पहले हमें ERP का full form जानना जरूरी है। दरसल ERP full form होता है Enterprise resource planning. 

जिसका इस्तेमाल ज्यादातर बड़ी और छोटी companies में बिजनेस को अच्छी तरह से manage करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

इसी के वजह से किसी भी data को बहुत ही अच्छी तरह से और आसानी से store किया जा सकता है और यही कारण है, की Tally का सबसे latest version का नाम भी Tally ERP 9 रखा गया है। जो अभी सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला software है।

Tally ERP 9 कैसे download करे

यदि आपको Tally ERP 9 download करने नहीं आ रहा है, तो फिक्र की कोई बात नहीं क्योंकि यहां हम Tally ERP 9 download करने के तरीके को विस्तार से बताएंगे।

जी हां हम यहां GST के साथ Tally का सबसे latest version Tally ERP 9 download करने बताएंगे। Tally ERP 9 software को download और install करना बहुत ही आसान है। 

Download करने से पहले इसके बारे में हम आपको बता दें, कि Tally solution विभिन्न product को practice और business के लिए download करने का offer प्रदान करता है।

लेकिन इसके लिए आपको license की जरूरत होगी। जानकारी ले लिए बता दें, की trial version में आप Tally को free में download कर सकते हैं और इस्तेमाल भी कर सकते हैं। 

यदि आप भी इस software को download करना चाहते हैं, तो नीचे बताए गए steps को ध्यानपूर्वक follow करें।

  • Tally ERP 9 download करने के लिए आपको सबसे पहले Tally solution की official website पर जाना होगा। आप चाहें तो नीचे दिए गए Download button पर click करके भी इसके official website पर जा कर downlaod कर सकते हैं।
  • अब आप Tally ERP 9 का जो version download करना चाहते हैं, उस पर click करें।
  • Click करते ही वहां दो options दिखाई देंगे Install now और Download for later दोनों में से आप किसी भी options पर Click करके download कर सकते हैं।
  • यदि आप Install now पर click करते हैं, तो यह software online माध्यम से install हो जाएगा।
  • लेकिन यदि आप Download for later option पर click करते हैं, तो यह आपके system को enable करता है, Tally software download करने के लिए। जिसके बाद customizing setting का इस्तेमाल करके इसे install किया जाता है।

Tally कैसे सीखे

दोस्तों Tally का काम सुनने में जितना मुश्किल लगता है, असल में वह उतना मुश्किल नहीं होता। जानकारी के लिए बता दें कि Tally सीखने के दो तरीके हैं।

जी हां पहला तरीका है online और दूसरा है Offline तरीका। आप चाहे तो किसी भी तरीके को अपनाकर Tally सीख सकते हैं। तो आइए हम आपको बता दें, कि आप Tally online या offline कैसे सीख सकते हैं। 

Offline Courses 

Tally सीखने के लिए आप offline तरीके आजमा सकते हैं। offline तरीके यानी कि किसी भी computer institute में जाकर आप Tally सीख सकते हैं। 

लेकिन ध्यान रहे किसी भी institute का चुनाव करने से पहले उसकी popularity और reviews की जाँच जरूर कर लें। 

Tally का course 1, 2 या 3 महीने तक चल सकता है सभी institute Tally सिखाने के लिए अलग – अलग समय सीमा रखते हैं। लेकिन ज्यादातर Tally का course लगभग 3 महीने का होता है। जहां students को सबसे पहले Tally के कुछ basic functions के बारे में जानकारी दी जाती है।

दूसरे व तीसरे महीने में students को advanced features, GST, Payroll इत्यादि के बारे में विस्तार से जानकारी दी जाती है। 

Online Courses 

आजकल सभी तरह के courses online available है। आप चाहे तो Tally course भी online कर सकते हैं।

लेकिन सबसे पहले यह ज़रुर ध्यान रखे, कि आप जिस website से online Tally course कर रहे हैं, वह विश्वसनीय है या नहीं। इसलिए online courses करने के लिए किसी भी platform को चुनाव करने से पहले उसकी review जरूर पढ लें। 

इसके साथ ही यह भी ध्यान रखें कि आप जिस platform से online courses के लिए enroll कर रहे हैं, वहां आपको course complete होने के बाद certificate मुहैया करवाएं।

और साथ ही यह भी जान ले, की आप को दिया जाने वाला certificate globally मान्य हो, तभी आप वहां से courses करें। 

Tally Course की फीस क्या होती है

जैसा कि आप जानते हैं Tally course करने के लिए आप किसी भी institute या online classes का सहारा ले सकते हैं।

लेकिन अब सवाल यह आता है, कि आखिर Tally course की fees क्या होती है? तो आपको बता दें, कि Tally के सबसे basic course के लिए आपको लगभग ₹4000, 1 महीने के देने होते हैं।

इसी तरह यदि आप Tally का advance course करना चाहते हैं, तो उसकी फीस लगभग ₹8000 तक लगेगी। लेकिन इसके अलावा अलग-अलग institute या platform पर Tally course की fees अलग – अलग भी हो सकती है। 

इसलिए Tally course करने से पहले जिस institute या online platform से classes करना चाहते हैं, वहां की fees के बारे में पहले पता कर लें।

Tally के बाद job opportunity 

tally jobs

दोस्तो Tally का course सीखने के बाद आपके मन में यही सवाल आ रहा होगा, की आखिर Tally करने के बाद किस तरह की job opportunity होती है और हमें किस तरह का job लग सकता है।

किसी भी छोटी या बड़ी company, दुकाने इत्यादि के account को maintain करने के लिए ऐसे लोगों की जरूरत पड़ती है, जिन्हें Tally की जानकारी हो। 

Tally सीखने के बाद आप किसी भी bank या company में accounting के लिए apply कर सकते हैं। अगर आप चाहे तो part time job के लिए market में किसी भी wholesale की दुकान में accounting का काम कर सकते हैं।

इसके अलावा आप किसी भी coaching institute में students को Tally सिखा कर भी पैसे कमा सकते हैं और अगर आप चाहे, तो online classes के माध्यम से भी students को Tally कि शिक्षा दे सकते हैं।

Conclusion

दोस्तों मुझे उम्मीद है, कि आज का यह लेख Tally क्या है और इसे कैसे सीखें?, Tally के फायदे इत्यादि के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त हो गई होगी।

लेकिन इसके बावजूद यदि आपके मन में Tally से संबंधित कोई सवाल है या आप को और अधिक जानकारी चाहिए तो आप नीचे comment section में comment करके पूछ सकते हैं।

यदि आपको इस लेख से संबंधित कोई राय देनी है, तब भी आप नीचे comment करके दे सकते हैं, क्योंकि आपकी राय हमारे लिए बेहद महत्वपूर्ण है।

अगर आपको हमारा यह लेख useful लगा हो, तो इसे अपने दोस्तों और social media पर जरूर शेयर करें। ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को Tally की जानकारी प्राप्त हो सके।

और भी पढ़ें :-


Share करें :
Asif Ansari

Hello! दोस्तो, मेरा नाम आसिफ अंसारी है, मैंने कंप्यूटर साइन्स के अंदर अपनी स्नातक की डिग्री पूरी की है। मुझे इंटरनेट, टेक्नॉलजी, कंप्यूटर के बारे में जानने की काफी ज्यादा दिलचस्पी रहती है यहाँ मैं इंटरनेट, ऑनलाइन पैसे कैसे कमायें, टेक्नोलॉजी, एजुकेशन और गेमिंग के बारे में अपनी Knowledge शेयर करता हूँ।

Leave a Comment

error: Content is protected !!!
380 Shares
Copy link